मां ने बताए, वो यादगार लम्हें, जब बच्चों पर गर्व हुआ

0
172
  • मानवभारती स्कूल ने ऑनलाइन माध्यम से माताओं और बच्चों संग मनाया मदर्स डे
  • बच्चों ने माताओं के लिए बनाए ग्रीटिंग और चित्र
  • मां ने कहा, बच्चों के साथ बिताया हर पल यादगार
  • मानवभारती के ऑनलाइन कार्यक्रम में डेढ़ सौ ज्यादा बच्चे शामिल हुए
  • प्री प्राइमरी, प्राइमरी, मिडिल और सीनियर स्कूल ने अलग-अलग समय पर मनाया मदर्स डे

देहरादून। मदर्स डे पर मानवभारती स्कूल ने छात्र-छात्राओं और उनकी माताओं के साथ ऑनलाइन संवाद किया। बच्चों ने अपनी  माताओं के फोटो खिंचवाकर स्कूल के साथ साझा किेए। वहीं, माताओं ने वो जानकारियां साझा कीं, जिनको याद करके बच्चों पर गर्व होता है। बच्चों ने माताओं के लिए सम्मान व्यक्त करतीं कविताएं और ग्रीटिंग्स साझा किए। स्कूल शिक्षिकाओं ने मदर्स डे पर गीत सुनाए।

 कोविड-19 संक्रमण के कारण लॉकडाउन की वजह से स्कूल बंद है, इसलिए पढ़ाई को जारी रखने के लिए मानवभारती स्कूल नियमित रूप से ऑनलाइन क्लास चला रहा है। रविवार को बच्चों और माताओं के साथ डिजीटल प्लेटफार्म पर मदर्स डे मनाया गया। प्री प्राइमरी, प्राइमरी और मिडिल स्कूल, सीनियर स्कूल के शिक्षक- शिक्षिकाओं ने अलग-अलग समय पर लगभग डेढ़ सौ से अधिक बच्चों से मदर्स डे पर उनकी तैयारियों की जानकारी ली।

 बच्चों ने अपनी माताओं के लिए ग्रीटिंग तैयार किए। ग्रीटिंग पर मां के प्रति सम्मान में कुछ न कुछ विचार व्यक्त किए हैं। बच्चों ने ग्रीटिंग्स पर चित्र भी बनाकर उनको अपनी कल्पनाओं के रंगों से आकर्षक बनाया है। कुछ बच्चों ने मां पर कविताएं सुनाईं और कुछ ने मां के साथ खिंचवाए फोटो साझा किए।

 ऑनलाइन कार्यक्रम की शुरुआत में संगीत शिक्षिका राशि सैन ने मां मेरी मां, मम्मा.. गीत सुनाया। शिक्षिका नीरजा जोशी ने बताया कि माताओं ने उन यादगार क्षणों के बारे में बताया, जिनको याद करके उनको बहुत प्रसन्नता होती है। माताओं ने कहा, वैसे तो हर मां के लिए अपने बच्चे के साथ बिताया हर पल यादगार होता है, लेकिन बच्चों के साथ कुछ खास क्षण तो हमें हमेशा प्रसन्न करते हैं। उन्होंने बताया कि छोटे बच्चे कभी कभी इतनी समझदारी की बात कर देते हैं कि आप स्वयं को गौरवान्वित महसूस करते हैं।

ध्रुव गांधी की मां ने बताया कि ध्रुव करीब छह साल का था। एक दिन हम सभी रेस्टोरेंट में फास्ट फूड खा रहे थे। हमने देखा कि ध्रुव ने अपनी प्लेट रेस्टोरेंट के बाहर खड़े एक बच्चे को दे दी। वहां से आकर उसने मां से कहा, मैं आपके साथ शेयर कर लूंगा। उन्होंने बताया कि मुझे यह देखकर बहुत अच्छा लगा कि मेरा बेटा, समाज के लिए संवेदनशील है।

 

वहीं तेजल रावत की मम्मी ने बताया कि जॉब की वजह से उन्होंने तेजल का प्ले स्कूल में एडमिशन करा दिया। उस समय तेजल ढाई साल की होगी। बताया कि एक दिन प्ले स्कूल से एक वीडियो मिला, जिसमें देखा कि तेजल राष्ट्रीय गान गा रही है, वो भी सही उच्चारण में। तेजल का वो वीडियो काफी शेयर किया गया था। मुझे अपनी बेटी पर गर्व है। वो क्षण मुझे जीवनभर गौरव का अनुभव कराते रहेंगे।

12 वीं कक्षा की सृष्टि निझावन ने मां पर स्वरचित कविता ये लफ्ज ही कुछ ऐसा है…सुनाई। सातवीं कक्षा के अविषेक पटवाल ने मां की महत्ता पर संबोधित किया। शिक्षिका पल्लवी ने मां और बच्चे के बीच स्नेह के संबंध पर विचार व्यक्त किए। शिक्षिका साइमा एनी ने मां के महत्व पर संबोधित किया। क्लास 12 के आशुतोष भट्ट की मां रंजना भट्ट, तन्वी सिंह की मां आंचल सिंह ने ऑनलाइन क्लास को लेकर स्कूल के प्रयासों की प्रशंसा की। ऑनलााइन कार्यक्रम में कबीर अहलूवालिया, पल्लवी, जसलीन, अरविंद नेगी, अनुराधा मेहरा, पूनम ढौंडियाल, डॉ. अनंतमणि त्रिवेदी, शिक्षक राजीव सागर, पूनम उनियाल, आरती रतूड़ी, जैनिफर, विनीता पांडे, पूजा थापा आदि शामिल हुए।

LEAVE A REPLY