ऐतिहासिक मानव श्रृंख्ला में मानवभारती

0
42

मानवभारती स्कूल के 230 बच्चे शामिल हुए विराट अभियान में

देहरादून। देहरादून को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने के लिए शहर में बनाई गई 50 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंख्ला में मानवभारती स्कूल के बच्चे और शिक्षक बड़े उत्साह से शामिल हुए। कक्षा नौ से 12वीं तक के 230 बच्चों ने श्रृंख्ला का हिस्सा बनकर पॉलिथिन का इस्तेमाल नहीं करने का संकल्प लिया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और मेयर सुनील उनियाल गामा ने पॉलिथिन का इस्तेमाल नहीं करने तथा अपने दून को स्वच्छ और सुन्दर बनाने का आह्वान किया।

   

मंगलवार सुबह मानव भारती स्कूल के निदेशक डॉ. हिमांशु शेखर ने ऐतिहासिक मानव श्रृंख्ला में शामिल होने के लिए बच्चों और शिक्षकों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर निदेशक डॉ. शेखर ने कहा कि मानवभारती ने अपने परिसर में पॉलीथिन के प्रयोग पर पहले से ही रोक लगाई है।

उन्होंने बच्चों से कहा कि बाजार से सामान और सब्जी आदि खरीदने के लिए घर से कपड़े का थैला लेकर जाएं। पॉलीथिन को न कहें और स्वस्थ रहें। स्कूल के बच्चों ने शिक्षक डॉ. अनंतमणि त्रिवेदी के निर्देशन में मानव श्रृंख्ला में हिस्सा लिया। डॉ. त्रिवेदी ने बताया कि पॉलिथिन के खिलाफ जागरूकता के लिए स्कूल नेहरू कॉलोनी और आसपास के क्षेत्रों में पहले भी अभियान चलाता रहा है। हम शहर को प्रदूषणमुक्त बनाने के लिए संकल्पबद्ध हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

मानव श्रृंख्ला में शामिल बच्चों ने देहरादून को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त रखने तथा दून को सुंदर और स्वच्छ बनाने की शपथ ली। इस विराट अभियान में शिक्षक अजय गुप्ता, चारू कोहली, संजीव रावत, अरविंद नेगी, कल्पना सिंह, विपिन रावत, मनोज कुमार, जैनिफर, अजीत मिश्रा, पुष्पा बिष्ट, बीरेंद्र रावत, अनिल कंडवाल, सोनम दयाल तथा छात्र-छात्राओं में स्कूल कैप्टन कुशाग्र कुकरेती, शालू यादव, मोनिका भंडारी, आनंद रावत, ऋषभ गुसाईं, रिया मल्होत्रा, वैष्णवी चौहान आदि शामिल हुए।

LEAVE A REPLY