Founder’s Day Celebration

0
36

Founders Day is traditionally a very important day in the school calendar when members of the school community meet to commemorate those who founded the school and who have bequeathed resources to its development.

It was a time to reflect on the school’s past and present, who have influenced the character and nature that embody the vibrant, engaging and safe environment we see today. The day began with the auspicious lighting of the lamp. It was followed by medley of songs by the school choir and Sarv Dharma Prarthana. Dr Anantmani Trivedi then enlightened the students by telling them about the life, work and philosophy of our late founder Dr. D. P. Pandey.

On this occasion Dr. Himanshu Shekhar the Director of the school also advised the students to follow their dreams with honesty and dedication. An Inter house painting competition was also conducted to contribute to all round development of the students.

संस्थापक दिवस पर सर्वधर्म प्रार्थना 

11 फरवरी 1910 को महान शिक्षाविद् डाॅ. डीपी पांडेय का जन्म हुआ था। उनके जन्मदिन को मानव भारती परिवार संस्थापक दिवस के रूप में मनाता है। मानव भारती स्कूल देहरादून में डाॅ. पांडेय को जयन्ती पर स्मरण किया गया। 11 की छात्रा श्रेया मधवाल, आठवीं की छात्रा तमन्ना, सातवीं की छात्रा श्रेया भट्ट व 11 वीं के छात्र कुशाग्र कुकरेती ने सर्वधर्म प्रार्थना की। सातवीं तथा आठवीं के विद्यार्थियों ने समूह गान किया। संचालन 11वीं कक्षा की छात्रा शालू यादव ने किया।

मानवभारती स्कूल के निदेशक डॉ. हिमांशु शेखर ने छात्र-छात्राओं को अपने सपने पूरे करने के लिए परिश्रम और लगन से पढ़ाई करने का आह्वान किया। मानव भारती के वरिष्ठ शिक्षक अजय गुप्ता ने दीप प्रज्ज्वलित करके कार्यक्रम का शुभारंभ किया। शिक्षक डॉ. अनन्तमणि त्रिवेदी ने डाॅ. डीपी पांडेय के आदर्शों तथा मानव भारती की स्थापना का उद्देश्य बताया।

सभी अध्यापक – अध्यापिकाओं ने पुष्प अर्पित कर डॉ. पांडेय को नमन किया। इस अवसर पर मानव भारती के सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं में दीपानीता, चारू कोहली, साइमा एनी, सुचिता कोठारी, आरती, अनिल कंडवाल, राजीव सागर, परमजीत कौर आदि ने सहभागिता की। इस अवसर पर चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

 

LEAVE A REPLY