पुण्यतिथि पर संस्थापक डॉ. डीपी पांडेय को मानवभारती स्कूल का नमन

0
665

मानवभारती लाइव। देहरादून

मानव भारती का अर्थ है- जागरूक मनुष्य जो अपने ज्ञान और सीखने की क्षमता के जरिये राष्ट्र और समाज के लिए कार्य करें। इस संकल्पना को साकार करने के लिए शिक्षा जगत का मार्गदर्शन करने वाले महान विचारक डॉ. दुर्गा प्रसाद पांडेय को आज (26 सितंबर) पुण्यतिथि पर श्रद्धापूर्वक नमन किया गया।

मानवभारती स्कूल के संस्थापक शिक्षाविद्, दार्शनिक और स्वतंत्रता आंदोलन के कर्मठ योद्धा डॉ. पांडेय  एक ऐसी शिक्षा प्रणाली चाहते थे, जो बच्चों औऱ युवाओं के ज्ञान और सोच को व्यक्तित्व विकास के हर आयाम पर सींच सके।

मंगलवार को पुण्यतिथि पर मानवभारती स्कूल के निदेशक डॉ. हिमांशु शेखर ने डॉ. पांडेय के चित्र पर माल्यार्पण करके उनके कार्यों को याद किया। विद्यालय के छात्र-छात्राओं, शिक्षक-शिक्षिकाओं और अन्य स्टाफ ने डॉ. पांडेय को नमन करके पुष्प अर्पित किए।

मानव भारती स्कूल के निदेशक डॉ. हिमांशु शेखर ने कहा कि मानव भारती स्कूल सीखने और ज्ञान अर्जित करने का माध्यम होने के साथ ही व्यक्तित्व विकास के हर उस आयाम पर फोकस करता है, जो जीवन को नया नजरिया देता है। यही वो ज्ञान है जो स्कूल की शिक्षा के बाद सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से सकारात्मक तरीके से तैयार रखता है। उन्होंने कहा कि मानव भारती स्कूल अपनी स्थापना के हर उस उद्देश्य को पूरी लगन और मजबूत इरादों से पूरा कर रहा है, जिसकी संस्थापक डॉ. दुर्गा प्रसाद पांडेय ने संकल्पना की थी।

  उन्हीं के बताए मार्ग का अनुसरण करते हुए मानव भारती स्कूल ने हर समय कुछ नया सिखाने वाले माहौल को तैयार किया है। इसके जरिये छात्र-छात्राएं स्वयं के ज्ञान को विस्तार देने के साथ कुछ नया सोचें और राष्ट्र निर्माण के लिए तैयार हो सकें। यह सब इसलिए भी है क्योंकि हमें इस बात पर पूरा विश्वास है कि हर बच्चा सीखना चाहता है।

स्कूल के छात्र-छात्राओं ने श्रीमद्भगवद् गीता के श्लोकों का पाठ किया। स्कूल के हेड ब्वाय लक्ष्य कंतूर, हेड गर्ल मेघा कुकरेती सहित स्टूडेंट काउंसिल के सभी पदाधिकारियों ने भी डॉ. पांडेय को नमन किया।

 

LEAVE A REPLY